UP Board Solution of Class 9 Hindi Chapter -6– punarmilan – पाठ – 6 जयशंकर प्रसाद -पुनर्मिलन (काव्य खंड) jayshankar prasad – प्रश्न -उत्तर Padyansh ke Prashn Uttar-gyansindhuclasses

UP Board Solution of Class 9 Hindi Chapter -6– punarmilan – पाठ – 6 जयशंकर प्रसाद -पुनर्मिलन (काव्य खंड) jayshankar prasad  – प्रश्न -उत्तर Padyansh ke Prashn Uttar-gyansindhuclasses

UP Board Solution of Class 9 Hindi Chapter -6– punarmilan

In this post we are giving you- UP Board Solution of Class 9 Hindi Chapter -6–– punarmilan – पाठ – 6 जयशंकर प्रसाद -पुनर्मिलन (काव्य खंड) jayshankar prasad  – प्रश्न -उत्तर Padyansh ke Prashn Uttar-gyansindhuclasses – upmsp syllabus new session.

चैप्टर 6.जयशंकर – पुनर्मिलन  -पद्यांश आधारित प्रश्न उत्तर

प्रश्न- 1. निम्नलिखित पद्यांशों पर आधारित प्रश्नों के उत्तर लिखिए

(क) इड़ा उठी, दिख पड़ा राज-पथ

                  धुंधली सी छाया चलती,

      वाणी में भी करुण वेदना

                   वह पुकार जैसी जलती ।

      शिथिल शरीर वसन विशृंखल

                  बरी अधिक अधीर खुली,

       छिन्न पत्र मकरन्द लुटी-सी

                   ज्यों मुरझायी हुई कली ।

प्रश्न- (i) अपने पति मनु को खोजते हुए श्रद्धा कहाँ पहुँचती है?

उत्तर- (i) अपने पति मनु को खोजते हुए श्रद्धा इड़ा के पास पहुँचती है।

प्र.(ii) श्रद्धा की वाणी में किस प्रकार की पुकार थी ?

उ. श्रद्धा की वाणी में करुण वेदना से भरी पुकार की जलन थी ।

प्र.(iii) इड़ा ने जब श्रद्धा को देखा तो उसकी दशा कैसी थी ?

उ. श्रद्धा का शरीर थका हुआ था और वस्त्र अव्यवस्थित थे, उसकी चोटी खुलकर अधीरता का संकेत कर रही थी ।

UP Board Solution of Class 9 Hindi Chapter -6– punarmilan

(ख) श्रद्धा रुकी कुमार श्रान्त था

               मिलता है विश्राम यहीं,

       चली इड़ा के साथ जहाँ पर

               वहिन- शिखा प्रज्वलित रही।

       सहसा धधकी वेदी-ज्वाला

                मण्डप आलोकित करती,

        कामायनी देख पायी कुछ

                पहुँची उस तक डग भरती ।

       और वही मनु ! घायल सचमुच

                  तो क्या सच्चा स्वप्न रहा ?

        “आह प्राण प्रिय ! यह क्या ? तुम यों ?”

                     घुला हृदय, बन नीर बहा ।

प्रश्न- (i)श्रद्धा को आश्रय कहाँ मिला?

उत्तर- (i) श्रद्धा को इड़ा के पास आश्रय मिला।

प्र.(ii) श्रद्धा ने मनु को किस अवस्था में देखा ?

उ. श्रद्धा ने मनु को घायल अवस्था में देखा

प्र.(iii) श्रद्धा का स्पर्श किसके समान था ?

उ. श्रद्धा का स्पर्श मनु के लिए मरहम के समान कोमल एवं कष्ट हरने वाला था ।

 

(ग)’माँ जल दे, कुछ प्यासे होंगे

           क्या बैठी कर रही यहाँ ?’

     मुखर हो गया सूना मण्डप

              यह सजीवता रही कहाँ ?

     आत्मीयता घुली उस घर में

               छोटा-सा परिवार बना,

     छाया एक मधुर स्वर उस पर

                 श्रद्धा का संगीत बना।

प्रश्न- (i) उपर्युक्त पद्यांश के कवि एवं कविता का नाम लिखिए ।

उत्तर- (i) उपर्युक्त पद्यांश के कवि जयशंकर प्रसाद जी हैं एवं कविता का नाम ‘पुनर्मिलन ‘ है ।

प्र.(ii) पद्यांश के अन्त में किसका मिलन होता है।

उ. श्रद्धा, कुमार एवं मनु का सुखद मिलन होता है।

प्र.(iii) किसका मधुर स्वर संगीत बन गया ?

उ. श्रद्धा का मधुर स्वर संगीत बन गया ।

 

Most Important Direct Links-
1UPMSP Model Paper 2022-23Click Here
2UP Board 30% Reduced  Syllabus 2022-23Click Here
3Class 9th All Chapters Solutions Of Hindi Click Here
4Model Paper of Hindi Click Here
5Join My Official Telegram Click Here

Comments are closed.

error: Content is protected !!